बांसवाडा जिले की सम्पूर्ण जानकारी banswara gk in hindi

banswara gk


परिचय 

  ● बाँसवाड़ा की स्थापना महारावल उदय सिंह के पुत्र
 महारावल जगमाल सिंह ने की थी ।
  ● बाँसवाड़ा को " सौ द्वीपों का शहर" भी कहते है।
  ● बाँसवाड़ा का नाम यहा पर पाए जाने वाले
 " बांस वृक्ष" के कारण पडा ।

  प्रमुख मंदिर 

     त्रिपुर सुन्दरी मंदिर 

 ● तलवाड़ा (बाँसवाड़ा) से 5 किमी दूर स्थित मन्दिर ।
 ● इस मन्दिर को ' तुरताई माता ' का मन्दिर कहते है ।
 ● इस मन्दिर मे देवी की मूर्ति काले पत्थर की है ।

   आर्थूणा के मन्दिर 

 ● मन्दिर का निर्माण वागड़ के परमार राजाओ ने
करवाया था ।
 ● पुराना नाम उत्थूनक है ।
 ● यह परमार राजाओ की राजस्थानी थी ।

प्रमुख नदिया 

 माही 

 ● उद्गम मेहद झील (मध्यप्रदेश ) से ।
 ● यह नदी बांसवाडा और डुगरपुर की सीमा बनाती
 है ।
 ● इसका प्रवाह क्षेत्र ' छप्पन का मैदान' कहलाता है।
 ● यह नदी कर्क रेखा को दो बार काटती है ।
 ● बोरखेड़ा गांव मे इस पर 'माही बजाज सागर' बाँध
बना हुआ है ।

अनास नदी

 ● उद्गम आम्बेर (मध्यप्रदेश) से ।
 ● माही नदी मे विलय होती है ।

स्वर्ण भंडार 

 ● आस्ट्रेलिया की कम्पनी इन्डो गोल्ड ने फरवरी
2007 मे की है ।
 ●यहा पर अनुमानत 3.85 करोड टन स्वर्ण हो सकता है ।

प्रमुख मेले 

 ● घोटिया अम्बा मेला चैत्र अमावस्या को घोटिया,
बारीगामा मे लगता है ।

प्रमुख तथ्य 

 ● शुष्क सागवान वन यहा पर मुख्यत पाए जाते है ।
 ● यहा पर प्रमुख तीर्थ घोटिया अम्बा माता धाम,केलपानी है ।
 ● कालिंजरा गांव मे ऋषभदेव का प्रसिद्ध मन्दिर है ।
 ● 'भगत आन्दोलन ' गुरु गोविंद गिरी ने चलाया था ।
 ● बाँसवाड़ा  प्रजामंडल की स्थापना 27 मई , 1945
मे हुई ।
 ● बाँसवाड़ा के महारावल चन्द्रवीर सिंह ने राजस्थान
 संघ मे विलय पत्र पर हस्ताक्षर करते समय कहा था
कि " मै अपने डेथ वारंट पर हस्ताक्षर कर रहा हू ।"
 ● बाँसवाड़ा का राजस्थान संघ मे विलय 25 मार्च,
 1948 को हुआ ।
विरम सिंह
विरम सिंह

This is a short biography of the post author. Maecenas nec odio et ante tincidunt tempus donec vitae sapien ut libero venenatis faucibus nullam quis ante maecenas nec odio et ante tincidunt tempus donec.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें